Himalaya Ka Samarpan Yog 1 By Shree ShivKrupanand Book Review

Himalaya Ka Samarpan Yog 1 – यह कोई साधारण आध्यात्मिक पुस्तक नहीं है, इसे हम “ग्रंथ” कह सकते हैं। जो महर्षि शिवकृपानंद स्वामीजी के आध्यात्मिक प्रवास के अनुभव पर आधारित है। जब भी मैं असंतुलित महसूस करता हूं, यह ग्रंथ मेरी आत्मा को ऊपर उठाने के लिए पर्याप्त है। इसका कोई भी पृष्ठ खोलें, उसमें आप को इतनी अनमोल जानकारी मिलेगी जैसे कि आप गुरु शिवकृपानंद स्वामी जी के साथ आध्यात्मिक यात्रा का आनंद ले रहे हों।

Himalaya Ka Samarpan Yog 1 By Shri ShivKrupanand Swami

Himalaya Ka Samarpan Yog 1 – Review

Himalaya Ka Samarpan Yog 1 यह पुस्तक सकारात्मकता से भरपूर है जो हमें आध्यात्मिक रूप से बढ़ने में मदद करती है। कैसे हम हमेशा इस बात को लेकर चिंतित रहते हैं कि क्या गलत और क्या सही हो सकता है, कैसे हम कभी भी पूरी तरह से संतुष्ट नहीं होते हैं और हमेशा स्थिति से अधिक की इच्छा रखते हैं।यह एक खूबसूरत आध्यात्मिक यात्रा है जिस पर आप भरोसा कर सकते हैं। 

जैसे ही मैंने यह किताब पढ़ना शुरू किया, मुझे यह उद्धरण याद आ गया। सही गुरु किसी का जीवन कैसे बदल सकता है। हमारे जीवन में उनका बहुमूल्य स्थान क्यों है? इस पुस्तक में हमें यह सब मिलता है।

Himalaya Ka Samarpan Yog 1 – एक श्रृंखला है, जो महर्षि शिवकृपानंद स्वामीजी के आध्यात्मिक प्रवास पर आधारित है। इस पुस्तक के माध्यम से हम जीवन के सबसे सरल और कठिन सत्य सीखते हैं। यहां हम गुरुदेव के ध्यान की अवधि और प्रकृति के साथ और हिमालय के गुरुओं के साथ बिताए गए समय को भी देखते हैं। यहां हमें ऐसा महसूस होता है मानो हम खुद उस पल को जी रहे हों।

यहां हम आत्म-साक्षात्कार की यात्रा को देखते हैं, क्योंकि गुरुदेव अपने पहले गुरु श्री शिवबाबा और उसके बाद के तीन गुरुओं की ‘साधना’  के बारे में साझा करते हैं। यहां हमें जीवन के सबसे सरल सत्यों का पता चलता है। वो सच्चाइयाँ जो हमें कभी नहीं भूलनी चाहिए। गुरुदेव की अपने गुरु के साथ बातचीत, उनके लिए उनकी सेवा, और उन्हें प्रकृति और अपने गुरु के आसपास शांति कैसे महसूस हुई, यह पढ़ने लायक है। अपने गुरु के साथ रहते हुए उनका अवलोकन, कि कैसे उन्होंने उनसे जितना संभव हो सका उतना सीखा और चीजों को समझा, यह देखने लायक है।

यह एक सामान्य मनुष्य की ‘नर से नारायण’ तक की यात्रा का जीवंत अनुभव है। इस ‘जीवित ग्रंथ’ के माध्यम से कई लोगों ने आत्म-साक्षात्कार प्राप्त किया है और आने वाली कई पीढ़ियाँ इसके माध्यम से आत्म-साक्षात्कार प्राप्त कर सकेंगी। पुस्तकों की इस शृंखला में पूज्य गुरुदेव ने हिमालय के गुरुओं के साथ अपने साधना काल और प्रकृति का इतना सजीव वर्णन किया है कि उसे पढ़ते हुए ऐसा लगता है मानों हम स्वयं उस क्षण को जी रहे हों!

इस पुस्तक को पढ़ते समय, आप हर उस पल को जीते हैं जो गुरु जी ने हिमालय में अपनी आध्यात्मिक यात्रा के दौरान जीया और अनुभव किया था। यह कोई सामान्य स्वयं सहायता पुस्तक नहीं है, यह एक वास्तविकता है जिसे केवल कुछ ही लोग अनुभव कर पाते हैं और जी पाते हैं। गुरुजी ने उस वास्तविकता को जीया है जिसके बारे में एक आम आदमी ने कभी सपने में भी नहीं सोचा होगा या हम कह सकते हैं कि इस भौतिक दुनिया में रहते हुए भी इस वास्तविकता को अनुभव करना उनके दायरे से परे है।

यदि आप चाहते हैं कि आपकी आध्यात्मिक प्रगति प्राकृतिक और शुद्धतम तरीके से हो, तो यह पुस्तक आपके लिए है। ये कोई नियम-कायदे या आम समाज की मान्यताएं नहीं हैं जिनका इस पुस्तक में उल्लेख किया गया है। किताब अपने आप में पूरी तरह से एक अलग दुनिया है। इसे जीवन से भी बड़ा बनाने वाली बात यह है कि यह कोई कल्पना नहीं बल्कि हकीकत है, जिसे इस समाज के एक आम आदमी ने जिया है और फिर उस अनुभव को लाखों लोगों तक पहुंचाया है।

स्वामीजी की ब्रह्मपुत्र नदी में एक द्वीप तक पहुंचने की यात्रा जहां उनकी मुलाकात श्रीनाथ बाबा से होती है, बेहद रोमांचक और रोमांच से भरी है।यह अविश्वसनीय है कि टेलीपैथी के माध्यम से कोई सीधे उच्चतम आध्यात्मिक ज्ञान कैसे प्राप्त कर सकता है।

अगर आप Himalaya Ka Samarpan Yog 1 किताब देखना चाहते है तो इस लिंक के थ्रू चेक कर सकते हैं।

Conclusion

यह कोई किताब नहीं है, यह लाइव एनर्जी फ्लो है.. इस किताब को पढ़ने मात्र से व्यक्ति आत्मबोध, कुंडलिनी जागरण का अनुभव कर सकता है। कई बार कई लोगों ने अनुभव किया है कि हमें अपनी शंकाओं, उलझनों का जवाब मिल जाता है….यह इतना स्पष्ट और जीवंत लिखा गया है कि आपको ऐसा लगता है जैसे आप वास्तव में हिमालय पर हैं। यह आध्यात्मिकता के सबसे गूढ़ रहस्यों और यहां तक ​​कि सांसारिक जीवन पर भी सबसे सरल लेकिन बहुत प्रभावी व्याख्या है!

पूज्य गुरुदेव की सफलता का रहस्य क्या है? उन्होंने ‘शून्य से विश्व’ तक का सफर कैसे तय किया? ऐसी कौन सी बातें हैं जो हम आज तक कभी नहीं जान पाए और अगर जान लें तो जिंदगी जीना कितना आसान हो जाएगा! ऐसे कई सवालों के जवाब जानने के लिए आपको

Leave a comment